UP ke 29 District me Chakbandi shuru : उत्तर प्रदेश के 29 जिलों में चकबंदी का आदेश हुआ जारी, अब सभी लोगों को मिलेगा लाभ, देखें पूरी जानकारी

UP ke 29 District me Chakbandi shuru : किसानों के हितों की देखरेख में, योगी आदित्यनाथ ने चकबंदी प्रक्रिया को मंजूरी दे दी है। आदेश के अनुसार, 29 जिलों के 137 गांवों में चकबंदी के आदेश जारी किए गए हैं। इससे किसानों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।

UP ke 29 District me Chakbandi shuru

UP ke 29 District me Chakbandi shuru
UP ke 29 District me Chakbandi shuru

उत्तर प्रदेश की प्रगति की दिशा में योगी सरकार कठिन परिश्रम कर रही है। किसानों के हित में, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चकबंदी प्रक्रिया को मंजूरी दी। राजस्व विभाग ने इस निर्णय की पुष्टि की है।

सरकारी निर्देश के अनुसार, उत्तर प्रदेश के 29 जिलों में 137 गांवों में चकबंदी कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। इसमें से 15 जिलों के 51 गांवों में पहले चक्र और 20 जिलों के 86 गांवों में दूसरे चक्र की चकबंदी की जाएगी। चकबंदी के तंत्र में किसानों को क्या लाभ होता है, इसे हम जान सकते हैं?

चकबंदी किसे कहते हैं ?

गाँवों में परिवार वृद्धि के साथ ही अक्सर जमीन का विभाजन भी होता है। यहाँ-वहाँ खरीदी गई जमीन और पैतृक जमीन अलग-अलग स्थानों पर स्थित होती हैं। इसके परिणामस्वरूप किसानों को खेती में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा, समय के साथ-साथ गाँवों में भूमि विवाद, सरकारी भूमि पर अतिक्रमण, और कई अन्य शिकायतें बढ़ती जा रही हैं।

यह भी पड़ें :- Bijli Bill : बिजली का हुआ माफ़ ऐसे चेक करें आपका बिजली बिल माफ़ हुआ या नही, देखें पूरी जानकारी

यह भी पड़ें :- Pan Card Personal Loan Kaise Milega पर्सनल लोन अब ऐसे मिलेगा 1000 से 30000 तक सीधे बैंक खाते में, देखें पूरी प्रक्रिया

इसके कारण सरकार निश्चित समय के बाद चकबंदी कराती है। इस प्रक्रिया के तहत, विभिन्न स्थानों पर फैली हुई खेतों को एक स्थान पर लाया जाता है, जिससे किसानों को आसानी से आधुनिक खेती का लाभ मिल सके।

चकबंदी कब हुई थी ?

1954 में यूपी में चकबंदी का पहला कदम उठाया गया था, जब मुजफ्फरनगर की कैराना तहसील और सुल्तानपुर जिले की खाना तहसील से इसकी शुरु की गई थी। इस उत्कृष्ट परीक्षण के बाद, 1958 में चकबंदी को पूरे यूपी में लागू किया गया।

चकबंदी से मिलने वाले लाभ ?

  • चकबंदी के कारण बिखरे हुए खेत एक स्थान पर एकत्र हो जाते हैं।
  • खेत का आकार बढ़ जाने से फसल उत्पादन की लागत कम हो जाती है।
  • छोटे खेतों में मेड़ में भूमि का काफी हिस्सा बर्बाद हो जाता है, जिससे चकबंदी से यह जगह सुरक्षित रहती है।
  • बड़े खेतों में आधुनिक खेती करना आसान होता है।
  • एक स्थान पर खेत होने से उनकी देखभाल सही ढंग से होती है।
Join Whatsapp Channel 
Click Here
Join Telegram Channel Click Here

यह भी पड़ें :- Birth Certificate Apply Process 2024 : जन्म प्रमाण पत्र अब बनायें अपने मोबाइल से घर बैठे इस नए पोर्टल से बिल्कुल आसान तरीका, अभी देखें पूरी प्रक्रिया

Leave a Comment