G20 Samiti 2023 : जी20 नई दिल्ली के घोषणा पत्र में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा एक महत्वपूर्ण इतिहास रचा गया

G20 Samiti 2023 : नई दिल्ली, जी20 लीडर्स घोषणा पत्र पर सभी देशों के सहमत होने की खबर मिली है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह स्वयं घोषणा की। प्रधानमंत्री मोदी ने यह बताया, हमारी टीम के मेहनती प्रयासों और आप सभी के सहयोग से, नई दिल्ली में जी20 लीडर्स घोषणा पत्र पर सहमति प्राप्त हुई है। उन्होंने यह भी कहा, मेरा प्रस्ताव है कि हम इस नेताओं के घोषणा पत्र को भी अपनाने की सोच रहे हैं।

G20 Samiti 2023

G20 Samiti 2023
G20 Samiti 2023

मैं इस पत्र को अपनाने का प्रस्ताव देता हूँ। उन्होंने इसे जारी किया और कहा इस अवसर पर मैं हमारे मंत्रिमंडल, शेरपा, और सभी अधिकारियों के साथ हूँ। जिन्होंने अपने अथाह परिश्रम से इसे सफलतापूर्वक किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी20 के सभी सदस्यों के प्रति अपना आभार जताया।

उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म ‘एक्स’ पर एक पोस्ट की, “नई दिल्ली लीडर्स डिक्लरेशन की मंजूरी के साथ ही इतिहास रचा गया है। सर्वसम्मति और मनोभाव के साथ हम एकजुट होकर बेहतर, अधिक समृद्ध, और समन्वय भविष्य के लिए सहयोग करने का संकल्प लेते हैं। जी20 के सभी साथी सदस्यों को उनके समर्थन और सहयोग के लिए मेरा आभार।

नई दिल्ली घोषणा पत्र में उन्होंने बताया कि इसमें कौन-कौन सी महत्वपूर्ण बातें हैं जिन पर जोर दिया गया है, और इसमें जी20 के भारतीय शेरपा अमिताभ कांत ने सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म ‘एक्स’ पर साझा किया।

मजबूत, दीर्घकालीक, संतुलित और समावेशी विकास के माध्यम से सतत विकास लक्ष्यों की प्राप्ति में तेजी बढ़ाने का प्रयास कर रहे हैं। हम एक दीर्घकालीक भविष्य के लिए हरित विकास की दिशा G20 Samiti 2023में समझौता कर रहे हैं, जिसका उद्देश्य 21वीं सदी के लिए बहुपक्षीय संस्थाओं के रूप में है, जो बहुपक्षवाद को पुनर्जीवित करने का काम कर रही हैं।

विदेश मंत्री और वित्त मंत्री ने क्या बोला ?

प्रधानमंत्री की इस घोषणा के बाद, वित्त मंत्री ने बताया कि विश्व बैंक की वित्तपोषण क्षमता को बढ़ाने की दिशा में सामूहिक रूप से काम करने का नया तरीका हुआ है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि बहुपक्षीय विकास बैंक (एमडीबी) को मजबूत करने के लिए जी-20 स्वतंत्र विशेषज्ञ समूह की स्थापना की गई थी, जिसने अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की है। उन्होंने बताया उनकी रिपोर्ट के दो भाग हैं।

पहला भाग पहले ही पेश किया जा चुका है। रिपोर्ट एक ट्रिपल एजेंडे की सिफारिश करती है, जो बेहतर, बड़े और अधिक प्रभावी एमडीबी के आह्वान के साथ मेल खाते है।G20 Samiti 2023 एमडीबी को मजबूत करने का तीसरा तरीका विश्व बैंक की वित्त मंत्री की क्षमता को बढ़ाने की दिशा में सामूहिक रूप से सही काम करने का यही समझौता है।

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बताया कि संयुक्त घोषणा पत्र मजबूत, संतुलित और समावेशी विकास पर केंद्रित है। इस दौरान उन्होंने कहा जी-20 नेताओं ने आतंकवाद के सभी रूपों और अभिव्यक्तियों की निंदा की और माना कि यह अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए सबसे गंभीर ख़तरों में से एक है

घोषणा पत्र में यूक्रेन के बारे में क्या उल्लेख किया गया ?

नई दिल्ली में आयोजित जी20 सम्मेलन के घोषणा पत्र में उक्रेन के चल रहे युद्ध पर बातचीत को महत्वपूर्ण मान्यता दी गई है। घोषणा पत्र में यह कहा गया है जब हम उक्रेन के विरुद्ध चल रहे युद्ध के संदर्भ में बातचीत करते हैं, तो हमने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद और संयुक्त राष्ट्र महासभा के प्रस्तावों के प्रति हमारा राष्ट्रीय दृष्टिकोण पुनर्प्रकटित किया। और इस पर जोर दिया कि सभी देशों को संयुक्त राष्ट्र चार्टर के उद्देश्यों और सिद्धांतों के अनुसार काम करना चाहिए।

यह भी पड़ें :- Aadhar Card New Update : UIDAI ने आधार कार्ड धारकों के लिए एक सुरक्षा अपडेट जारी किया है, अब आप इसे कैसे उपयोग कर सकते हैं, इसके बारे में जानिए

यह भी पड़ें :- E shram Card Paisa Aana Shuru ! ई-श्रम कार्ड का 1000 पैसा आना शुरू सभी के खाते में भेजा गया,अभी चेक करे

यह भी पड़ें :- Up Rojgar Mela 2023 : उत्तर प्रदेश में एक रोजगार मेला का आयोजन किया गया है, जिसमें युवाओं को रोजगार के अवसर दिए जा रहे हैं

संयुक्त राष्ट्र चार्टर के अनुसार, सभी देशों को किसी भी अन्य देश की क्षेत्रीय अखंडता और साम्राज्यवाद या राजनीतिक स्वतंत्रता के खिलाफ क्षेत्रीय अधिग्रहण की धमकी या बल का प्रयोग से बचना चाहिए। परमाणु हथियारों का प्रयोग या इसकी धमकी स्वीकार्य नहीं है।

20 शिखर सम्मेलन में क्या-क्या घटित हुआ ?

9 सितंबर को, जब ‘जी20 शिखर सम्मेलन’ का आगाज़ हुआ, तो सुबह साढ़े दस बजकर दोपहर के डेढ़ बजकर तक पहला सत्र ‘वन अर्थ’ का आयोजन किया गया। इसी दौरान, ‘वन फैमिली’ भी उपस्थित थी। पर दूसरा सत्र दोपहर 3 बजे से 4.45 बजे तक चला।

अब शाम 7 बजे, सभी राष्ट्राध्यक्ष डिनर पर मिलेंगे, जहां इनके बीच रात 8 बजे से 9.15 बजे तक बातचीत होगी। रविवार को, जी20 सम्मेलन के आखिरी दिन, ‘वन फ़्यूचर’ पर तीसरा सत्र सुबह 10 बजे से दोपहर 12.30 बजे तक आयोजित किया जाएगा। इस वक्तावद अंश के बाद, जी20 शिखर सम्मेलन समाप्त होने की योजना है।

प्रधानमंत्री मोदी के सामने एक बोर्ड पर ‘इंडिया’ की बजाय ‘भारत’ लिखा गया 

पिछले नई दिल्ली में आयोजित किए जा रहे जी-20 देशों के सम्मेलन के पहले दिन, जो शनिवार को था, जब प्रधानमंत्री मोदी अपना उद्घाटन भाषण दे रहे थे, तो कई लोगों ने अपने ध्यान को वे बोर्ड पर रखे हुए पाया, जो उनकी मेज़ पर था!

उनके सामने रखे बोर्ड पर ‘भारत’ लिखा था। अतीत में ऐसे अंतरराष्ट्रीय आयोजनों के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने ‘इंडिया’ लिखा हुआ देखा जाता है।

वहीं, पिछले साल 15 नवंबर को इंडोनेशिया के बाली में हुआ जी-20 देशों का सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी के सामने रखे बोर्ड पर ‘इंडिया’ लिखा था।

पिछले दिनों, जी-20 सम्मेलन से जुड़े कार्यक्रम के लिए राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू के निमंत्रण पत्र में ‘इंडिया’ की जगह ‘भारत’ लिखा होने को लेकर बड़ा विवाद खड़ा हो गया था।

शुक्रवार को ही संयुक्त राष्ट्र ने कहा था कि अगर भारत उसके पास औपचारिक मांग भेजता है और सभी औपचारिक छमता पूरी कर देता है, तो वह संयुक्त राष्ट्र के रिकॉर्ड में दर्ज किया जाएगा।में ‘इंडिया’ का नाम ‘भारत’ कर देगा।

कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दलों ने यह कहा है कि मोदी सरकार इस प्रस्ताव पर विचार कर रही है कि देश का नाम ‘इंडिया’ से ‘भारत’ में बदला जाए।

उन्होंने कहा कि विपक्षी गठबंधन ने अपने आप को ‘इंडिया’ के नाम से पहचाना है, इसलिए बीजेपी सरकार अब चाहकर ‘भारत’ नाम का उपयोग कर रही है।

G20 Samiti 2023 Website 

Click Here

Join Telegram Channel Click Here

 

Leave a Comment